April 13, 2024, Saturday
२०८१ बैशाख १, शनिबार

गजल

पराई देश खबर के पठाऊँ
दु:ख पीडाको लहर के पठाऊँ  !
 
खाडी मुलुक पुगेको छोरो मेरो
पीडाका कुरा सकभर के पठाऊँ  !
 
मुटु कलेजो तिमी प्राण मेरो
आँसु समाली लस्कर के पठाऊँ  !
 
आफै पीडामा बसेका पो छौ कि।
मनको मेरो रहर के पठाऊँ !
 
चर्किन्छ घाम मरुभूमिभित्र
मेरो सहरको बगर के पठाऊँ !